अजाद

0
252

मंदरें दी घैंटी
मसीती दी अजान,
गिरजाघरें दी प्रार्थना,
गुरद्वारें दी गुरबाणी दी मिट्ठड़ी तान –
एह् सब सुर मीं भांदे
मेरा मन-चित्त लांदे
मेरे साहीं ज्हारां लोक खचोंदे
भीड़ बनांदे
आ’ऊं बी भीड़ा कन्नै भीड़ बनी जंदी
उं’दे च दड़ी-दड़ी बौंह्‌दी
खुशी-खुशी, हसदे-हसदे
मेरे कन्नै ज्हारां लोक चलदे
जाने-अनजाने
जेह्‌ड़े
मीं मेरा गै हिस्सा बझोंदे

जदूं कदें जिसलै भीड़
खिट्टां लांदी
रौला पांदी
किश खिंझदे-बिझदे
केईं बारी
में जान बचाई बी लैंदी
पर
समें दी घड़ी
समें-समें पर
मिगी भेड़-चाल चलने शा चितेआंदी
अपनी चाल रोकने लेई पतेआंदी

पर जिसलै भीड़
शतान बनी गेई
‘में-में, मेरी-मेरी’
पर गै भिड़ी पेई
मेरा अंध-भक्ति दा भरम त्रुट्टा
मेरे अंदर इक बक्खरा सुंब फुट्टा
मिगी हून बी सब सुर भांदे न
मेरा मन-चित्त लांदे न
पर
हून मिगी भीड़ा दी लोड़ नेईं
हुन में भीड़ा शा बक्खरी आं
जित्थै मन करदा जाई बौह्‌न्नीं
कुसै दी धक्काशाही नेईं मन्ननीं ।

Previous articleग़ज़ल
Next articleगीत
Chanchal Bhasin
Dr. Chanchal Bhasin is a well known writer and a senior lecturer in Dogri (School of Education Jammu). She's an individual with a doctoral degree who was born on 5th May 1962. Her fluency and proficiency in various languages prove her to be a good translator, critic along with being an analyst. She has her book published on analytical work and has done the translation of three novels. Many state and national level organizations have also honored her and is a receiver of Dr. Ambedkar National Fellowship award.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here