LATEST ARTICLES

ग़ज़ल

0
करां बी केह् समीने दा तरीका।बड़ा औखा ऐ जीने दा तरीका।। सभा$ मेरा ब'रीका जागतू ऐ,करी दिख हां पतीने...
Microsoft Dogri Support

साइबर-एरा च डोगरी : चनौतियां ते अवसर (मौके)

0
सार: प्रस्तुत लेख दा उद्देश्य साइबर-एरा च डोगरी गी दरपेश चनौतियें ते उपलब्ध मौकें दी नशानदेई करना ऐ । इस लेख च...

मते दिनें दे मगरा

0
मते दिनें दे मगरा चित-बुद्ध होए भ्यालसजरे-सजरे अत्त सलक्खने होए ख्याल । मते दिनें दे मगरा इ’यां समर्पण आयाजि’यां...

देना गै जिं’दी फितरत ऐ

0
में धारें गीजोरियै आल दित्तीओह् केईं गुणा बधियैसरीली ते सजरी होइयैपरतोई आई शायद धारें दाएह् सनेहा लेइयै आईजे ओह्...

गज़ल

0
भटकन तेरा दोश नेईं मजबूरी ऐहिरणा तेरी धुन्नी इच्च कस्तूरी ऐ । मेरे चिट्टे बालें पर की जंदे ओअजें...

भुआड़ा

0
लोड़ नेईं ऐमांगवें कक्खें दीमीं भुआड़ें ताईंकी जेकिश कक्खमें सांभी रक्खे दे नअगड़ताईं भौ सांभना औंदा ऐजे मींतां औंदे...

गीत

0
कु’न जान्नै जे कुस छलिये नेकी कर एह् भुलखाइयां, कूंजां तरेहाइयांउड्डी जीवन-सर आइयां कूंजां तरेहाइयां । जनम-जनम दी त्रेह्...

भलेखा

0
केईं बारी सोच औंदी ऐजेधार्मक ते तीर्थ-स्थानें पररींघां लाइयैबैठे दे मंगतेअंदर जाने आह्‌लेशरधालुएं अग्गैकीऽ तलियां अडदे नमिन्नतां करदे नथालियें च भनकट पाइयै

त्रुट्टे दे धागे गंढदे जाएओ

0
कुत्ते, काएं ते चिड़ियें दा हिस्साकीड़ी-मकोड़ी ते लुढ़ियें दा हिस्साधियें, भैनें ते बुड्ढियें दा हिस्साबिंद-बिंद हिस्सा बंडदे जाएओत्रुट्टे दे धागे गंढदे जाएओ...

शारे

0
एह् वक़्त देशारिये न 'सूफी'जो शारें-शारेंशारे करा देना तेरी समझाना मेरी समझागल्लां जि'यां नतारे करा दे । भ्यागा दी...

शिकल दपैह्‌र

0
शिकल दपैह्‌ररस्ता सुन्नासुन्न-मसुन्ना।अक्क चढ़े दा दौनें पास्सैंबर्‌हैंकड़ किश कंडेआरी बीपक्के पैरें आं उस राह्जित्थें नेईं तेरे कन्नै बाह्लेइयै सारा दमखम अपनाउ’ऐ तेज-तरार...

में उस पीढ़ी दा वारिस

0
मेंउस पीढ़ी दा वारिस आंचढ़दी जान्नी चजिसने अपने साथियें कन्नैलुट्टियां हियांपंजी-दस्सियां जग्गै दी धामा चबस्सइ’यै हियां हीखियांजे दक्खना चकुसलै...

मेरी डोगरी

0
मेरी डोगरी, मेरी डोगरीमेरी ज़िंदगी, मेरी ज़िंदगी,मेरा इश्क ऐ, मेरी आशकीमेरी डोगरी, मेरी डोगरी । मेरी आत्मा, मेरी चेतनाचिंतन...

गीत

0
किस्मत कु’त्थै , कैंत ओ मेरा मोटर बेहियै जा ओसुत्ते दे न भाग जेह्‌ड़े आइयै कु’न जगाऽ ओ ।नेईं कराया बोझै ओह्‌दे,...

माहिया

0
ब्हा प्यौके दी आई ऐसौह्‌रे घर लाड़ियै नेघुट्टी छातिया नै लाई ऐ । ब्हा प्यौके दी आई ऐसाहें इच...

मजदूर

0
मजदूरा दी मजबूरी गी कोई नेईं समझा करदा ऐसर्दी-गर्मी न्हेरी-झक्खड़ सब किश इ’यै जरदा ऐमजदूरा दी मजबूरी गी..... रुट्टी-पानी...