LATEST ARTICLES

Nilambar Dev Sharma

Tribute to Prof. Nilambar Dev Sharma

0
A special on-line literary programme was organized by Dogri Sanstha, Jammu to pay tribute to late Padam Shri Prof. Nilambar Dev Sharma,...

मच्छर

0
यूटी अंदर मच्छर-बिड़ी डंग लगे न लानसारै इ’नें घेरा मारी कीता ऐ परेशानग्राएं, पिंडैं, शैह्‌रैं, बजारैं बस्से बेशमारटीके लाइयै चाढ़न बिस्स, कन्नै...

मुंढ डंग

0
तम्हूड़ियें दे खक्खरे दी अपनी पछान ऐबिस्सु आह्‌ले डंगें इच पीड़ें आह्‌ली जान ऐदुंब खड़ी करी बिच्चु माऊ गी खंदे नसप्पै दे...

ब्हारां

0
जाड़ैं दिक्खो रंग-बरंगे फुल्लें दियां ब्हारांहर ब्हार च पक्खरू उडदे कन्नै कूंज डुआरांघाऽ हरे ते पत्तर सैल्ले लभदे सारे पास्सैदिनें-दपैह्‌रीं बद्दल दौड़न...

बूह्‌टे लाने

0
नमें बीएं दी लाई पनीरी, बूह्‌टे हुन उगानेएह् अबादी मती बधाइयै, इ’यै जागत खढानेइ’यै करनी हुन कमाई, सुखै दा साह् जे लैनाबूह्‌टै-बूह्‌टै...

नशा

0
डोगरी संस्था उट्ठी खड़ोती नौजवान बचानाटीम जम्मू बी अग्गें आई ऐ, नशा हुन मकानानशा भाएं कोई बी होऐ साढ़ा म्हेशां बैरीबल्लें-बल्लें रंगें...

ग़ज़ल

0
करां बी केह् समीने दा तरीका।बड़ा औखा ऐ जीने दा तरीका।। सभा$ मेरा ब'रीका जागतू ऐ,करी दिख हां पतीने...
Microsoft Dogri Support

साइबर-एरा च डोगरी : चनौतियां ते अवसर (मौके)

0
सार: प्रस्तुत लेख दा उद्देश्य साइबर-एरा च डोगरी गी दरपेश चनौतियें ते उपलब्ध मौकें दी नशानदेई करना ऐ । इस लेख च...

मते दिनें दे मगरा

0
मते दिनें दे मगरा चित-बुद्ध होए भ्यालसजरे-सजरे अत्त सलक्खने होए ख्याल । मते दिनें दे मगरा इ’यां समर्पण आयाजि’यां...

देना गै जिं’दी फितरत ऐ

0
में धारें गीजोरियै आल दित्तीओह् केईं गुणा बधियैसरीली ते सजरी होइयैपरतोई आई शायद धारें दाएह् सनेहा लेइयै आईजे ओह्...

गज़ल

0
भटकन तेरा दोश नेईं मजबूरी ऐहिरणा तेरी धुन्नी इच्च कस्तूरी ऐ । मेरे चिट्टे बालें पर की जंदे ओअजें...

भुआड़ा

0
लोड़ नेईं ऐमांगवें कक्खें दीमीं भुआड़ें ताईंकी जेकिश कक्खमें सांभी रक्खे दे नअगड़ताईं भौ सांभना औंदा ऐजे मींतां औंदे...

गीत

0
कु’न जान्नै जे कुस छलिये नेकी कर एह् भुलखाइयां, कूंजां तरेहाइयांउड्डी जीवन-सर आइयां कूंजां तरेहाइयां । जनम-जनम दी त्रेह्...

भलेखा

0
केईं बारी सोच औंदी ऐजेधार्मक ते तीर्थ-स्थानें पररींघां लाइयैबैठे दे मंगतेअंदर जाने आह्‌लेशरधालुएं अग्गैकीऽ तलियां अडदे नमिन्नतां करदे नथालियें च भनकट पाइयै

त्रुट्टे दे धागे गंढदे जाएओ

0
कुत्ते, काएं ते चिड़ियें दा हिस्साकीड़ी-मकोड़ी ते लुढ़ियें दा हिस्साधियें, भैनें ते बुड्ढियें दा हिस्साबिंद-बिंद हिस्सा बंडदे जाएओत्रुट्टे दे धागे गंढदे जाएओ...

शारे

0
एह् वक़्त देशारिये न 'सूफी'जो शारें-शारेंशारे करा देना तेरी समझाना मेरी समझागल्लां जि'यां नतारे करा दे । भ्यागा दी...