सागर दी मैह्‌मा

0
शरणागत वत्सल दे लक्खनदस्सन सागरा तेरा बड़प्पनउप्परा ढलदे डिगदे -ढौंदेहाड़ें ब्हान्नै रोंदे-धोंदेझरने, दरेआ, नदियां, नालेत्राही माम् दे मारन आलेतूं अपनाएं ब्हामां खोह्ल्लीसुआगत-सुआगत...

जीवन-कत्थ

0
जीना झूठ, मरना सच्चलौह्‌की सच्ची तेरी कत्थ। आई खड़ोना मौतै जिसलैथर-थर कबंने पुरजे उसलै। तरले-मिन्नतां नेईं...

सुखराम ‘दुखी’

0
जदू दा शायर बनेआ ऐ सुखरामहोई गेआ ऐ दुखी।बधाई लेई दाढ़ीसिक्खी लेई शराबशायर होने लेई एह् जरूरी हा जनाबसिरगिटै दे लम्मे-लम्मे कश...

अक्खर

0
अक्खर स्पर्श बनियै गरमैश दिंदे नप्यार दे निग्घे जिसमै दी गरमैशकिश अक्खर खशबो बनी जंदे नप्यार दे निग्घे साहें दी खशबोते किश...

मेरे मालका

0
कुदरत दे कैह्‌रा हेठ दबोई कुल दुनियाकोई दस्स मालका रस्ता, विपता टाली देदेओ सबस गी स्हारा र’वै कोई कल्ला नेईंढट्ठै नेईं जिगरा,...

गीत

0
होऐ चानन मड़ा हर थाह्‌रखुशियें दे रंग भरी देमचै कदें निं नेहा हा-हाकारखुशियें दे रंग भरी दे । असर...

बरखा दियां कनियां

0
पैह्‌लें इक, फ्ही द’ऊं ते फ्ही सारियां जनियांऔंदियां न किट्ठियां होइयै एह् बरखा दियां कनियां । तां मेरी लेर-ढेर...

आ हां भाइया लैचै लाई

0
कौड़ी होंदे मिट्ठी लग्गैतां गै पींदे इस्सी सब्भैकैसी कुसै चीज बनाईआ हां भाइया लैचै लाई। जात-पात निं इसने भाखीहिंदू-मुस्लिम...

गीत

0
मनै देआ मौजियाओ कैंत्त मेरे फौजियातेरे बाह्‌जूं सुन्ना एह् ग्रांओ मैह्‌रमा मनै देआछुट्टी लेइयै तौले घर आ । छुट्टी...

अजाद

0
मंदरें दी घैंटीमसीती दी अजान,गिरजाघरें दी प्रार्थना,गुरद्वारें दी गुरबाणी दी मिट्ठड़ी तान –एह् सब सुर मीं भांदेमेरा मन-चित्त लांदेमेरे साहीं ज्हारां लोक...

ग़ज़ल

0
मलांदा रौंह्‌दा हा सजरी करेह् ओह् रेतु इचपता निं लोड़दा रौंह्‌दा हा केह् ओह् रेतु इच। जिऱनें लखाए हे...

ओह् गीत कु’त्थें ऐ

0
ओह् गीत कतांह् ते कु’त्थें ऐजो मेरे मनै ध्याया ऐमेरी हांबा शा दूर कुतैकुदरत ने जुगें शा गाया ऐ ।.

गज़ल

0
याद तेरी मैह्‌रमा, आई तां टुरदी होईहिरदै ब्हाली चाएं, ओह् बी भुरदी होई। सुखनें मैह्‌ल बनाया, खूब सजायानीहें सिर...

गज़ल

0
गलानी शा उसदा पता लगदा ऐज़ख़्म उसदा बी नमां लगदा ऐ। किन्ने बदनीते न एह् दुनिया आह्‌लेघरै शा निकलो...

गज़ल

0
जिस बेल्लै रावण दा नास ज़रूरी ऐराम गी उस बेल्लै बनवास ज़रूरी ऐ । सज्जना तेरी लोड़ मिगी बी...

समुद्र-मंथन

0
तुगी कु’न्न समुंद्रै मोकला बनायाकश तेरै दस्स , केह् ऐ अपनादनां बचारी मिगी सनायांठंडे-मिट्ठे नदियें दे नीरखारी कीती तूं जल-सीर