बाणप्रस्थी

0
सुख-सुवधा सब भोगी ऐठा, जी लेई यरो घ्रिस्तीजोका मेरा चित्त करै दा होई जां बाणप्रस्थी। हुन तांह्‌ग निं बाक़ी...

गुज्झियां पीड़ां

0
किश दुख म्हेशा लेई होंदे नकिश गुज्झियां पीड़ां ला-इलाजओह् घड़ियांजेह्‌ड़ियांइं’दा लाज-मलाजा करी सकदियां हियांचरोकनियां गुजरी गेई दियां न हुन...

मेरी आत्म-कत्थ

0
में दीआ आं !बलदा रौह्‌न्नांमजारैं, मढ़ियैं,शिवालें चगरीबड़ें दी बस्ती चकुसै शायर दे ख्यालें चकुसै बजोगनै दीहीखी, मेदें,आसें चकुसै अंबडी दे सुआसें च

इक पल

0
में किन्ने ब’रें दा इक पलघोटी रक्खे दा हाअपनी मुट्ठी चसोचे दा हा जिसलै तूं मिलगाइसगी रक्खी ओड़ङतेरी तली उप्परतेतूं सांभी लैगा...

करोना-5

0
अच्छी सोच करियै असें अपने घरैं बौह्‌नाहमला करी निं सकै उप्पर जालम एह् करोना अपने घरैं पुज्जन ओह् बी...

अनसोधा जीवन-पैंडा

0
अनसोधे पैंडे पर चलदेपैंडे गी मंज़िल इच्च ढलदेझल्ली लैंदा सब किश बंदापर किन्ना किश छुड़की जंदा । किन्ना डूंह्‌गा...

गीत

0
निक्के होंदे सपाही गलांदी ही मांनांऽ फौजै च तां हा लखाई लेआमरने शा पैह्‌लें भारत मां देदुशमनें गी मारी मकाई लेआ।

संदेसा

0
सूरज दी रश्में गी घर परतोने दा संदेसा आयादिना दे गोरे शैल मुंहै पर स’ञै ने परदा सरकायासफर मेरा मुक्कने पर आयामन...

सुहागरात

0
बसैंत चाननी, नायिका पद्‌मनी बनियै अज्ज पसोऐसोलां कलां संपूर्ण नायक जि’यां चन्न बझोऐ। हिरख दौनें गी करदे दिक्खी रात...

इक फुंग

0
राजकुमारी बेही डोलीघर सौह्‌रै चलीअजें पजेकी रस्ते च हीबरखा दी झड़ी मोह्‌ले-धारें हीडोली ठपदे तगर झम्मना गेआ सिज्जीरानी बनी राजकुमारी गेई भिज्जी

जटलता दा पाठ

0
अज्ज मेरास्कूलै च पैह्‌ला दिन ऐअज्जै थमांमेरी मासूमियत गीजटल बनाने दा कम्म रंभेआ जाना ऐ हून मेंमेरे सुखने गिनी-गिनी...

काव्य-रचना

0
पंज तत्तमचाई अत्त। मरी मत्तभुल्ली बत्त। रुड़ेआ सत्तझूठी कत्थ। भैड़ी लत्तचूसै रत्त ।

नशानी

0
सूहे थेवे दी एह् ङूठी जेह्‌ड़ी मीं पाई दीएह् ते अज्जै दी नेईं, लौह्‌की बरेसा दी ऐएह् उ'नें दित्ती ही हिरखै दी...

आमद

0
तेरी आमद शाकिश पल पैह्‌लेंपीते कौड़े घुट्टवेदन भरोचेसुनेआ तेरा गुज्झा करलद्दतेरी चुप्पी चजरे पीड़ें दे प्हाड़रूं-रूं च तेरे छंदेतुगी...

गीत

0
नीलमी स'ञांसवेरे केसरीआई जंदेथाह्गने लेई हेजले मत्था चुम्मी दिंदे सीसांकु'न करग साढे नै रीसांयारड़े अपने न--मौसम मनचलेआई जंदेथाह्गने लेई...

खोह्‌ल्लो हड़ताल

0
कट्ठे होइयै इक दिन अंग शरीरै देसब्भै आपो-अपना गै हे रोना रोएएक्का करी आपूं-बिच्चें इक-जुट होइयैढिड्डै कन्नै सब्भै गै हे अंग बठोए