आमद

0
394

तेरी आमद शा
किश पल पैह्‌लें
पीते कौड़े घुट्ट
वेदन भरोचे
सुनेआ तेरा गुज्झा करलद्द
तेरी चुप्पी च
जरे पीड़ें दे प्हाड़
रूं-रूं च

तेरे छंदे
तुगी लीकने दे
जिंदु दे काकला प
भावें दे पोतड़ें दा निग्घ
पल-पल मसूसेआ बी
पर मेरा निर्णा
जो तुगी सांभना नेईं हा चांह्दा आह्‌लकें
कुसै सूरत च बी
की जे
तेरी आमद दा लोआरा
झल्लना अत्त औखा हा
मेरे ताईं

बेबसी मेरी प हस्सेआ
में आपूं बी
तेरी आमद दा ओह्का लोआरा लग्गा निं मुड़ियै?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here