आ, किट्ठे पीचै पानी

0
355

बक्करी आखै शेरै गी—
आ, किट्ठे पीचा पानी
सुखै-दुखै दियां गल्लां करचै
बनचै फ्ही अमर क्हानी

शेर आखदा—
सुनी लै बक्करिये
कु’त्थुआं दा पीगे पानी
जल त’वी दा दूशत कीता
लोकें जानी-जानी
हुन मेरे च रेही निं हिम्मत
कि’यां में आमां पार
दूशत जल पी-पीऐ, अड़िये
रौह्‌न्नां जोका बमार
कि’यां भेजां में चिट्ठी, अड़िये
कि’यां में भेजां तार
जे मिलने गी मन ऐ तेरा
तां तू गै आई जा रोआर

हुन निं रेहा में ओह्‌की शेर
होई गेआ हुन लेर-ढेर
माड़ा पानी पी-पीऐ, अड़िये
दिक्खनी ऐ कि’यां सवेर

हुन हड्डें च जोर निं रेहा
रेहा निं ओह्‌का दाड़ा
दस्स हुन कि’यां बढ़कां मारा
पीऐ पानी एह् माड़ा

जे अभियान चलाङन लोक
पैह्‌ले दिन परताङन लोक
जम्मुऐ गी सुर्ग बनाङन लोक
निं करङन आना-कानी
में ते तूं फ्ही किट्ठे रलियै
पीगे त’वियै दा पानी
सुखै-दुखै दियां गल्लां करगे
बनगे फ्ही अमर क्हानी

गल्ल शेरै दी सुनियै बक्करी
हिरखै नै मुंडी ल्हांदी
दूशत जल मि’म्मी पीना
तां जे पेई निं जां मांदी
देश डोगरा सुर्ग ऐ, अड़ेआ
एह् गै सुन्ना-चांदी
हर पतझड़ दे बाद ऐ औंदी
मित्तरा ब्हार बांदी

त’वी अभियान च शामल होइयै
दिखचै इसदी रवानी
सारे किट्ठे होइयै करचै
निर्मल इसदा पानी
सुखै-दुखै दियां गल्लां करचै
बनचै फ्ही अमर क्हानी
बनचै फ्ही अमर क्हानी ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here