आ हां भाइया लैचै लाई

0
219

कौड़ी होंदे मिट्ठी लग्गै
तां गै पींदे इस्सी सब्भै
कैसी कुसै चीज बनाई
आ हां भाइया लैचै लाई।

जात-पात निं इसने भाखी
हिंदू-मुस्लिम सब दी साखी
इस्सी पींदे सिक्ख-इसाई
आ हां भाइया लैचै लाई।

दिनैं-दपैह्‌री दस्सै तारे
मौजां लुट्टो ते लैओ नजारे
केईं इसने रुढ़दे तारे
जि’नें एह्‌दी हट्टी पाई
आ हां भाइया लैचै लाई।

खुशी-गमी बिच एह् परधान
बुड्ढे पीऐ होन जुआन
उं’दे लेई ऐ दुद्ध-मलाई
आ हां भाइया लैचै लाई।

देश-बदेशें पींदे लोक
केईं पींदे पाइयै कोक
असें पीनी पानी पाई
आ हां भाइया लैचै लाई।

डाह्‌डी नींदर आह्‌न्नै मित्तरा
एह् निं तुप्पै खट्ट बिस्तरा
फूढ़ी दी बी लोड़ निं भाई
आ हां भाइया लैचै लाई।

सौ जड़ियें दी इक ऐ बूटी
पियै दुनियां लैओ झूटी
तां गै पींदे फौजी भाई
आ हां भाइया लैचै लाई।

पीओ समझी इस्सी दवाई
गल ढोल निं लैना पाई
पैसे होन ते पीनी भाई
आ हां भाइया लैचै लाई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here