उस्सै जाड़ै इच्चा लंघदे होई

0
321

अस
अपनी गल्ल करदे-करदे
‘उं’दी’ गल्ल बुहास्सरी गे
हुन जे किश बी आखना होंदा ऐ
उ’ऐ आखदे न

उस्सै दी बनाई दी बत्ता पर हुन
उस्सै दे जाड़ै शा लंघने आं
जंगलें इच्च उग्गने दी ताहंग ही
किश गल्ल-बात बदलें नै करदे
सड़ीकी लैंदे
अठखेलियां करदे
पानिया दे तुपकें गी
धुप्पा गी बनाई लैंदे टल्ले
छां दी बुक्कल मारियै
उठी जंदे सौन –
गर्मी गी झांकन दिंदे
छड़ा बाह्‌रले दरवाजे शा
स्यालै
बर्फु दे घर बनाई लैंदे

इ’नें तांह्‌गें नै होन्नां
कदें स्थूल
कदें सूखम

इस खूबसूरत मोह् गी
किश-किश पानी-रूपा इच्च
अपनी उंजलै इच्च भरनां ते जरूर
पर
बगी जंदा ऐ
उस्सै दी बनाई दियें बत्तें पर
उस्सै दे जंगला इच्चा बगना ऐ

कुसै बीऽ इच्च जाइयै
खबरै कनेहा बनां
ओह्‌दा ऐंश
उग्गने दी तांह्‌गें इच्च
उगदा गेआ
फ्ही होर-होर उग्गन दित्ता
नां बीऽ बनां
नां उग्गां परतियै में
मुक्त होई जां बल्लें -बल्लें
इ’नें ताह्‌गें शा –
इस उग्गने शा
इस बीऽ शा
इस मुक्ति शा ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here