ओह् गीत कु’त्थें ऐ

0
667

ओह् गीत कतांह् ते कु’त्थें ऐ
जो मेरे मनै ध्याया ऐ
मेरी हांबा शा दूर कुतै
कुदरत ने जुगें शा गाया ऐ ।
.

उसदे सुर अंदर गूंजदे न
हर बोल बी उसदा भंदा ऐ
ओह् छेड़ै सुर मन-वीणा दे
गुन-गुन उसदा मस्तांदा ऐ
कुरजी जा नित्त ओह् नैनें चा
मन-भट्ठी दे बिच्च ताया ऐ
ओह् गीत कतांह् ते कु’त्थें ऐ
जो मेरे मनै ध्याया ऐ
मेरी हांबा शा दूर कुतै
कुदरत ने जुगें शा गाया ऐ ।

खबरै ओह् मेरी काह्‌न्नी दी
कद् चुंझै दे बिच्च पौना ऐ
अमरत जन सुच्चे बोल ओह्‌दे
ओह् शव बिच्चा शिव होना ऐ
ओह् फुल्ल सुगंधै मैह्‌कै जो
कश पुजदे गै मुरझाया ऐ
ओह् गीत कतांह् ते कु’त्थें ऐ
जो मेरे मनै ध्याया ऐ
मेरी हांबा शा दूर कुतै
कुदरत ने जुगें शा गाया ऐ ।


ओह् चरखे दी घूं-घूं अंदर
माला दे फेरें पौंदा ऐ
में देआं सोआई ओह्‌दे नै
रूह् मेरी गी समझोंदा ऐ
ओह् चतर-चतेरा चित-ठग्गना
मीं घूक नींदरै पाया ऐ
ओह् गीत कतांह् ते कु’त्थें ऐ
जो मेरे मनै ध्याया ऐ
मेरी हांबा शा दूर कुतै
कुदरत ने जुगें शा गाया ऐ ।

कुदरत दी गोदा पलदा एह्
ब्हाऊ बिच्च सरगम भरदा ऐ
क्यारी-क्यारी बिच्च कलियें दे
बुल्लें पर बोल एह् धरदा ऐ
सुर एह्‌दे सूखम गी छूंह्‌दे
पर सोचें बिच्च नेईं आया ऐ
ओह् गीत कतांह् ते कु’त्थें ऐ
जो मेरे मनै ध्याया ऐ
मेरी हांबा शा दूर कुतै
कुदरत ने जुगें शा गाया ऐ ।

मेरे ल्हुए दे कण-कण बिच्च
मेरे साहें बिच्च बगदा ऐ
मेरी जिंदु गी हंडदा ऐ
पर मीं पल-पल ठगदा ऐ
उन्ना गै दूरें रौंह्‌दा ऐ
जिन्ना में इसगी चाहेआ ऐ
ओह् गीत कतांह् ते कु’त्थें ऐ
जो मेरे मनै ध्याया ऐ
मेरी हांबा शा दूर कुतै
कुदरत ने जुगें शा गाया ऐ ।

रुक्खें दे पत्तरें उक्करोआ
बरखै दी किन-मिन ब’रदा ऐ
नदियें दे छल्लैं छलकै दा
सागर दी लैह्‌रैं तरदा ऐ
छपदा बदलें दी बुक्कल बिच्च
पर मीं रखदा तरेहाया ऐ
ओह् गीत कतांह् ते कु’त्थें ऐ
जो मेरे मनै ध्याया ऐ
मेरी हांबा शा दूर कुतै
कुदरत ने जुगें शा गाया ऐ।

लैह्-लैह् धानें दी मिंजर बिच्च
कनकु दी बालियैं छणकै दा
एह् खेतर-खेतर पैली बिच्च
मक्कुएं दे सिट्टैं बनकै दा
जो सुक्की आंदर सेड़ी जा
जिस भुक्खैं निग्घ पजाया ऐ
ओह् गीत तांह् ते इ’त्थें ऐ
जो मेरे मनै ध्याया ऐ
मेरी हांबा शा दूर कुतै
कुदरत ने जुगें शा गाया ऐ ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here