कालियां चिड़ियां

0
323

कालिया चिड़ियां लांदियां न र्‌होल
मिट्ठे-मिट्ठे उं’दे गीतें दे बोल ।

किन्नी बिपता करियै आह्‌लड़ु बनांदियां
चुंझें कन्नै कि’यां इस्सी मिट्टी ओह् लांदियां
सांभी-सांभी रखदियां न एह्‌दे च अंडे
तालियै सु’टदियां न एह्‌दे चा कंडे
रातीं आइयै बिंद क बौंह्‌दियां डोल
कालिया चिड़ियां लांदियां न र्‌होल

चिड़ुएं दे औने दी होई ऐ तेआरी
सांभै जि’यां कोई हीरें दी पटारी
आह्‌नियै बछांदियां न आह्‌लड़े च रूं
कक्ख निं चुब्भै कोई चिड़ुएं दे मूंह्
आह्‌लड़े च रक्खेआ खजाना अनमोल
कालिया चिड़ियां लांदियां न र्‌होल

आई गे न चिड़ु हुन हीखी ऐ बधी
ममता बी बधी कन्नै राखी ऐ बधी
रुऐं च पाए दे न जि’यां कोई लाल
उ’आं गै रखदियां चिड़ुएं दा ख्याल
इक जंदी चूगै गी दूई बौंह्‌दी कोल
कालिया चिड़ियां लांदियां न र्‌होल

चिड़ुएं दे जातुएं च चूग न पांदियां
हिरखै दी भाशा उ’नेंगी समझांदियां
जातु बाकी-बाकी हुन बोलदे न चिड़ु
बल्लें-बल्लें अक्खीं हुन खोह्‌लदे न चिड़ु
चिड़ियें दे मनैं बज्जन खुशियें दे ढोल
कालिया चिड़ियां लांदियां न र्‌होल

चिड़ियें दी ममता आंह्‌गर एह् संसार
मोह् माया ने पाया खलार
बच्चें दी खातर निं सच्च-झूठ बोल्लो
चिड़ियें आंह्‌गर खून ते पसीना डोह्‌ल्लो
उड्डरना ऐ पक्खरू ते रेही जाना खोल
कालिया चिड़ियां लांदियां न र्‌होल

कालिया चिड़ियां लांदियां न र्‌होल
मिट्ठे-मिट्ठे उं’दे गीतें दे बोल ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here