खोह्‌ल्लो हड़ताल

0
337

कट्ठे होइयै इक दिन अंग शरीरै दे
सब्भै आपो-अपना गै हे रोना रोए
एक्का करी आपूं-बिच्चें इक-जुट होइयै
ढिड्डै कन्नै सब्भै गै हे अंग बठोए

आखन जे दिन रात अस कम्म करनें
दिक्खो जिसलै बी ढिड्डै ने मूंह् बाके दा
लब्भै जे नेईं किश तां शमान चुक्की लैंदा
कम्म करने बेल्लै रौंह्‌दा एह् तापे दा

कीता एह् फैसला सभनें अंगैं मिलियै
बंद करो सब्भै अपना कम्म धंदा
छेकी देओ इस्सी कोई गल्ल नेईं करनी
दिक्खने आं फ्ही कु’त्थूं भरदा ऐ ढंडा

अक्खें दिक्खनां, नक्क-कन्न डोरे बनी गे
हत्थें कम्म छोड़ी दित्ता, पैरें ढेरी ढाई
बनेआं शरीर पिंजर, मूंह् होआ रेओड़ी
फाक्के लग्गन, ढिड्डै गित्तै बनी गेई फाही

जिसने बी दिक्खेआ माड़ा बझोआ उस्सी
किश लोकें आइयै कोल कीती पड़ताल
हर इक अंगै दा होंदा अपना गै वजूद
कैह्‌सी मरी जंदे ओ , एह् खोह्‌ल्लो हड़ताल

होना जे नरोए तुसें, माफी मंगो ढिड्डै शा
भलेमानसै दी ‘रतन’ मन्नी लैती गल्ल
आई गेई फ्ही रंगत फिरी गेई रोहानगी
आया नेईं दोबारा मुड़ियै फ्ही नेहा पल ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here