गज़ल

0
177

भटकन तेरा दोश नेईं मजबूरी ऐ
हिरणा तेरी धुन्नी इच्च कस्तूरी ऐ ।

मेरे चिट्टे बालें पर की जंदे ओ
अजें बी मेरे प्यार दा रंग संधूरी ऐ ।

वाह्-वाह् वाह्! इक बारी मुड़ियै पढ़ेओ जी
बस इन्नी हर कवता दी मजदूरी ऐ ।

हर माह्‌नू गी सच्चा प्यार नेईं मिलदा
कुसै-कुसै दे भागैं एह्‌की चूरी ऐ ।

बलगी जायां अक्खे अजें मटोएआं नेईं
मेद मिगी उं’दे औने दी पूरी ऐ ।

जेह्ड़े तुपदे मोख, उ’नेंगी पुच्छो सेही
जीने कोला केह्ड़ा मोख जरूरी ऐ ।

दुनिया निरा छलैपा मड़ेआ इसगी दिक्ख
मिगी की दिक्खै करना घूरी घूरी ऐ ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here