गज़ल

0
327

पता निं इक परू दे परार किन्ने हे
समें दे बे-थ’वे , बे-ब्हा खलार किन्ने हे ?

नदी, नदी दे रुआर, इक नदी नदी दे पार
नदी ते इक्कै ही, पर आर-पार किन्ने हे !

तदूं ते होश गुआचे दे हे, जरूरत ही
पर हुन में सोचनां, खज्जल-खुआर किन्ने हे !

हे गर्जमंद, दवान्नी सिरै चढ़ी दी ही
असें निं सोचेआ, स्हान्नें दे भार किन्ने हे !

नमें मकान च रौह्‌न्नां, में हुन की याद करां
परानी छत्तै पर उसलै मघार किन्ने हे ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here