गज़ल

0
404

चन्नै गी दिक्खी चन्न मुस्काया
अंदर-बाह्‌र चन्न बनाया ।

रूप-शलैपा चमकै-लिश्कै
पानी भरदा चन्न शरमाया ।

कोई ते होनी उसदी मजबूरी
ऐह्‌में नेईं उस दगा कमाया।

सुखना बनियै औंदा-बसोंदा
चेतें उसदा सौन बर्‌हाया ।

मुद्दत होई ओह् नेईं आया
जिस लेई मनै गी मैह्‌ल बनाया ।

इक-मिक होने दी जदूं बी सोची
दोखियें आइयै फरज नभाया ।

उ’आं ते गल्ल किश बी नेईं सी
असें निं रुस्सा जार मनाया ।

‘दोषी’ ने सब गोदा पाया
जख्मी दिल बी रफू कराया ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here