गज़ल

0
328

घसबट्टी उप्पर अज़माए जंदे न
जाची-परखी दोस्त बनाए जंदे न ।

बैरी गी ओठें पर थाह्‌र नेईं थ्होंदा
गीत ते सज्जनें दे गै गाए जंदे न ।

पता बी है भुंचाल ने ओचक आना ऐ
ताह्‌म्मी ते घर-बाह्‌र सजाए जंदे न ।

चौक-चबारैं इं’दा चर्चा ठीक नेईं
घर दे मसले घर नपटाए जंदे न ।

सुनेआ हा के एह् सज्जनें दी बस्ती ऐ
इत्थै बर्छे की पलेआए जंदे न ?

बेह्‌ल्लें दी बस्ती बिच्च होर केह् होंदा ऐ
बस राई दे प्हाड़ बनाए जंदे न ।

सतयुग होवै भामें कलयुग, दौनें इच्च
सिद्धे-सच्चे लोक सताए जंदे न ।

दिलै गी पोचा लाना कुसै ने भाखा नेईं
दिन-रातीं चेह्‌रे चमकाए जंदे न ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here