गज़ल

0
333

लूनदानी ते सुरमेदानियां न
मेरी माऊ दियां नशानियां न ।

ताल, सुर, लैऽ च थोड़ की होवै
कन्नैं गूंजदियां मधानियां न।

अक्खर-अक्खर परोंदियां मोती
अपने हत्थैं घड़ी दी काह्‌न्नियां न।

माल-बच्छा, सरूट, घाऽ-पट्ठा
मेरे पिछले ग्रां दी क्हानियां न ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here