गज़ल

0
542

बदलै मीं अमृत दे थ्होंदा जैह्‌र की ऐ
हिरखै गी मेरे नै इन्ना बैर की ऐ ?

खेतरैं जे फ्ही बी एह् पानी निं पुज्जै
खेतरें कन्नै बगा दी नैह्‌र की ऐ ?

जान देने पर तुले दा की ऐ कोई
जान दी मंगा दा कोई खैर की ऐ?

इक देआ करदे ओ मीं चादर एह् छुट्टी
दूआ पुच्छा दे ओ, बाह्‌र एह् पैर की ऐ ?

मेरी बेड़ी गी डबोइयै बिच्च मझाटै
आपूं हांबा दी किनारै लैह्‌र की ऐ?

साक़िया मैह्‌फ़ल च तेरे सारे अपने
इक छड़ा ‘अरमान’ गै एह्‌ ग़ैर की ऐ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here