गज़ल

0
364

जिस बेल्लै रावण दा नास ज़रूरी ऐ
राम गी उस बेल्लै बनवास ज़रूरी ऐ ।

सज्जना तेरी लोड़ मिगी बी उन्नी गै
जिन्ना जीने ताईं सोआस ज़रूरी ऐ ।

पैरें गित्तै थोह्‌ड़ी धरत बी काफी जे
फंघें ताईं खु’ल्ला गास ज़रूरी ऐ।

सुक्की तीला होना कोई तप नेईं
हड्डें उप्पर मासा मास ज़रूरी ऐ।

हट्टी शैल सजानी ऐ जे गीतें दी
तां पीड़े दी खु’ल्ली रास ज़रूरी ऐ ।

घर एह्‌दा ते भुक्खा गै बेशक सज्जना
ताह्‌म्मीं जीने ताईं आस ज़रूरी ऐ ।

माह्‌नू अंदर नेकी उन्नी गै लाज़म
जिन्नी फुल्लें अंदर बास ज़रूरी ऐ ।

हुनर कुसै घुट्टी दा घुट्ट नेईं “साजन”
ब’ट्टे पर रस्सी दी घास ज़रूरी ऐ ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here