गज़ल

0
356

गलानी शा उसदा पता लगदा ऐ
ज़ख़्म उसदा बी नमां लगदा ऐ।

किन्ने बदनीते न एह् दुनिया आह्‌ले
घरै शा निकलो तां पता लगदा ऐ।

इन्ना बी बखला नेईं कलापा असें
इक-दो दिन बुरा लगदा ऐ।

अज्ज बी नेईं ओह् औने आह्‌ला
एह्‌का दिन बी गेआ लगदा ऐ।

उ’आं भार छाती प बड़ा ऐ
मुस्काई देने च केह् लगदा ऐ !

चार पैर छिंडे प कचैहरी ऐ
सोची लैओ ! समां बड़ा लगदा ऐ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here