ग़ज़ल

0
411

मलांदा रौंह्‌दा हा सजरी करेह् ओह् रेतु इच
पता निं लोड़दा रौंह्‌दा हा केह् ओह् रेतु इच।

जिऱनें लखाए हे बन्ने ओह् आर-पार गे
जिऱनें बरेत लखाई ही, रेह् ओह् रेतु इच।

ओह् जिस गी फखर हा मुगता तऱवी दी भौड़ें पर
पता निं की नेईं तुपदा सनेह् ओह् रेतु इच।

न किश चलोभियें कीता, न धुप्प दे सेकें
जनेह् पानियें अंदर जनेह् ओ रेतु इच।

किले बनाए हे रेतु दे जिंऱदे पुरखें ‘राज़’
अजें बी लोड़दे रौंह्‌दे न थेह् ओह् रेतु इच।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here