गीत

0
261

होऐ चानन मड़ा हर थाह्‌र
खुशियें दे रंग भरी दे
मचै कदें निं नेहा हा-हाकार
खुशियें दे रंग भरी दे ।

असर ऐ कीता पक्कियें झिड़कें
सुन्न-मसान ऐ ग’लियैं-शिड़कैं
कुत्तु-बिल्लु बी लभदे निं बाह्‌र
खुशियें दे रंग भरी दे ।

अपनी कृपा दी बरखा बर्‌हायां
पैह्‌ले आह्‌ले दिन परतायां
सारै होऐ तेरी जै-जैकार
खुशियें दे रंग भरी दे ।

सारें गी रुट्टी-टल्ला थ्होऐ
कोई निं कल्ल-मकल्ला होऐ
रस्सन-बस्सन सारे परोआर
खुशियें दे रंग भरी दे ।

तांहीं निं जाना, तोआंहीं निं जाना
अंदर बड़ियै समां लंघाना
जि’यां देई गेआ दोआला मड़ो काह्‌र
खुशियें दे रंग भरी दे ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here