गीत

0
187

किस्मत कु’त्थै , कैंत ओ मेरा मोटर बेहियै जा ओ
सुत्ते दे न भाग जेह्‌ड़े आइयै कु’न जगाऽ ओ ।
नेईं कराया बोझै ओह्‌दे, नंगें पैरें जा ओ
सुत्ते दे न भाग जेह्‌ड़े आइयै कु’न जगाऽ ओ ।

करी म्हिनत-मजूरी कैंत नमें सूट लुआंदा ओ
शैह्‌रा दा बंगां आह्‌न्नी मेरी बीणीं ओह् पुआंदा ओ
सच्चा-मुच्चा हिरख ओह् मेरा कदें निं गुआऽ ओ
सुत्ते दे न भाग जेह्‌ड़े आइयै कु’न जगाऽ ओ ।

रोई बी लैन्नें, हस्सी बी लैन्नें, जरी बी लैन्नें पीड़ां ओ
लाई ओ लैन्नें टल्ले बी अस लींगड़ैं जोड़ी लीरां ओ
फ्ही गरीबी सदा गै दिक्खो सीन्ने कन्नै ला ओ
सुत्ते दे न भाग जेह्‌ड़े आइयै कु’न जगाऽ ओ ।

जंदे गड्डियां दिक्खी-दिक्खी होंदा ‘कुंडरिया’ र्‌हान ओ
टुरदे बत्ता पैर पुआने छाल्ले पौंदे जान ओ
दुख रूहै दे सुखै च बदली, गीत ओह् गांदे जा ओ
किस्मत कु’त्थै , कैंत ओ मेरा मोटर बेहियै जा ओ
सुत्ते दे न भाग जेह्‌ड़े आइयै कु’न जगाऽ ओ ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here