गीत

0
369

कु’न जान्नै जे कुस छलिये ने
की कर एह् भुलखाइयां, कूंजां तरेहाइयां
उड्डी जीवन-सर आइयां कूंजां तरेहाइयां ।

जनम-जनम दी त्रेह् अनसंभी
मुकदी नेईं इस थाह्‌रा
पत्तन बेहियै करन कलोलां
होऐ नेईं पार-तोआरा
सज्जन पारा आले मारन
रोआरैं कुस भरमाइयां कूंजां तरेहाइयां
उड्डी जीवन-सर आइयां कूंजां तरेहाइयां

इस मेल्ले बिच्च रूह् दा गाह्‌की
जिंदु दा मुल्ल पांदा
लेई टुरदा ओह् खसम-गुसाईं
जो उसदे मन-भांदा
नेईं जानन जोवन बिच्च डुब्बियां
एह् चैंचल मुरगाइयां, कूंजां तरेहाइयां
उड्डी जीवन-सर आइयां कूंजां तरेहाइयां ।

चार दिनें दा रस्सन-बस्सन
कूच करै फ्ही डेरा
जोर-जुआनी सुखना लग्गै
खिन-मात्तर दा फेरा
जुग बीतन एह् सच्च समझांदे
समझन नेईं समझाइयां, कूंजां तरेआइयां
उड्डी जीवन-सर आइयां कूंजां तरेहाइयां

कु’न जान्नै जे कुस छलिये ने
की कर एह् भुलखाइयां कूंजां तरेहाइयां
उड्डी जीवन-सर आइयां कूंजां तरेहाइयां ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here