गीत

1
533

में दपट्टियै गी पिच्छ लोआई
ते चोनां पा , अड़िये।
कुड़ी खेढियै मैली करी आई
ते धोनां पा, अड़िये !

छब्बी दी ऐ मलमल, फुल्लें दा गै रंग ऐ
आकड़ी दी इ’यां जि’यां कच्चु दी गै बंग ऐ
मोई सारें कशा लभदी सुआई
ते चोनां पा, अड़िये !

मलमल झुल्लै जि’यां बद्दलें दी टोर ऐ
गोरियै जे लैती मड़ो, होर दी गै होर ऐ
मोई रेशमी शा लभदी सुआई
ते चोनां पा, अड़िये !

गोरा रंग मुंहै दा, दपट्टी सूही घुट्ट ऐ
खंघी-खंघी जंदा मड़ो लंबड़ै दा चुट्ट ऐ
अ’ऊं जां एह्‌दे उप्परा घमाई
ते छोड़ी आ अड़िये
में दपट्टियै गी पिच्छ लोआई
ते चोनां पा , अड़िये !

1 COMMENT

  1. तुन्दे गीत जिन्दाबाद नै। तुस डोगरी दी महादेवी वर्मा ओ! मेरा सौ सौ वंदन🙏

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here