गीत

0
668

आसें, मेदें, सुखनें, ताह्‌गें
किश भाव-छुआलें दी बुनतर
जे है तां बनदे गीत, गीत
जे नेईं तां बेमैह्‌ने अक्खर

रत्तु चा उब्भरदे न गीत
सुआसें चा उस्सरदे न गीत
खिड़दे परसे दी मैह्‌क लेई
किश रीह्‌ज भरोची डैह्‌क लेई
एह् नेईं तां, गीत निं गीत बनन
नेईं सच्चे जीवन-मीत बनन
जे एह् किश है तां गीत, गीत
इं’दे न्नै गीत बनन सक्खर
आसें, मेदें, सुखनें, ताह्‌गें
किश भाव-छुआलें दी बुनतर
जे है तां बनदे गीत , गीत
जे नेईं तां बेमैह्‌ने अक्खर

नि’म्मे हास्सें-मुस्कानें दे
रम्जें अंदरली तानें दे
अत्थरुएं, हा-हाकारें दे
हिरखै, चाएं ते मल्हारें दे
ज़िंदगी दा लेखा-जोखा न
वरना धोखा गै धोखा न
होने-जीने दे छंद गीत
ओह् गीत, होंद जिं’दे अंदर
आसें, मेदें, सुखनें, ताह्‌गें
किश भाव-छुआलें दी बुनतर
जे है तां बनदे गीत , गीत
जे नेईं तां बेमैह्‌ने अक्खर

कान्हा दी मुरली दी सरगम
राधा दी पंजेबें दी छम-छम
तौह्, रावी , चन्हां दी कलकल-कल
किरणीली लैह्‌रें दी झलमल
मन-मिंजरां थिरकन गीतें इच्च
सुख-सद्धरां धड़कन गीतें इच्च
संगीत सुरें दा मेल गीत
गीतें दे रिणी धरती-अंबर
आसें, मेदें, सुखनें, ताह्‌गें
किश भाव-छुआलें दी बुनतर
जे है तां बनदे गीत, गीत
जे नेईं तां बेमैह्‌ने अक्खर ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here