गीत

0
365

सुर्ख दंदासा, नैन नशीले
नाजुक बुल्लियां, बोल रसीले
गभरू सारे अक्खियें कीह्‌ले
पांदा खूब धमाल नखरा गोरी दा
करी टकांदा घाल नखरा गोरी दा

अक्ख-मटक्कैं खूब नचांदी
सज्झर मत्तु करी टकांदी
मेरी गैह्‌ला गेड़े लांदी
दसदी नेईं पर अंदरां चांह्‌दी
होआ नेहा कमाल नखरा गोरी दा
करी टकांदा घाल नखरा गोरी दा

विधना शैल शंगारी दी ऐ
गासा हूर तोआरी दी ऐ
सप्पनी हिरख पटारी दी ऐ
दुनिया दी मत्त मारी दी ऐ
करदा मंदड़ा हाल नखरा गोरी दा
करी टकांदा घाल नखरा गोरी दा

‘किप्पी’ हुन इक पल निं लाना
अज्ज गै उसगी जाई ब्याह्‌ना
उसगी अपनी हूर बनाना
भामें दिखदा र’वै जमाना
सूहा देना रमाल, नखरा गोरी दा
करी टकांदा घाल नखरा गोरी दा ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here