गीत

0
338

अक्खरें शब्दें दा जोग लेआ मेरे मतवाले जोगी ने
किश गीत लिखे, किश छंद घड़े इस काह्‌न्नी आह्‌ले जोगी ने

रत्ती भर मिलना लिखेआ ऐ , बाकी सब दर्द-बछोड़ा ऐ
दुक्खें दे हाड़ बगाए न सुख एह् पर थोह्‌ड़ा-थोह्‌ड़ा ऐ
काग़ज़ पर डोह्‌ल्ली दित्ते न दो नैन प्याले जोगी ने
अक्खरें शब्दें दा जोग लेआ मेरे मतवाले जोगी ने
किश गीत लिखे, किश छंद घड़े इस काह्‌न्नी आह्‌ले जोगी ने

सब दर्द समेटी लैते न ते ज़ैह्‌र पचाई लैता ऐ
लौह्‌के-बड्डे हर दुखड़े गी छाती नै लाई लैता ऐ
फ्ही नज़्में, ग़ज़लें, गीतें दे किश दीए बाले जोगी ने
अक्खरें शब्दें दा जोग लेआ मेरे मतवाले जोगी ने
किश गीत लिखे, किश छंद घड़े इस काह्‌न्नी आह्‌ले जोगी ने

पीड़ें दी सार निं समझी जिस उसगी हमदर्द गलाया ऐ
जिस मुल्ल निं पाया प्रीतै दा उस्सै गी मीत बनाया ऐ
की नक्को-नक्क सजाई ले छाती इच्च छाले जोगी ने
अक्खरें शब्दें दा जोग लेआ मेरे मतवाले जोगी ने
किश गीत लिखे, किश छंद घड़े इस काह्‌न्नी आह्‌ले जोगी ने

पीड़ें गी अत्थरुएं दा ओह् नित्त-नित्त दुद्ध पलैंदा ऐ
अक्खरें दा जोग बी दुनिया च कोई बिरला गै लैंदा ऐ
मत्थे दा ताज बनाए न एह् अक्खर काले जोगी ने
अक्खरें शब्दें दा जोग लेआ मेरे मतवाले जोगी ने
किश गीत लिखे, किश छंद घड़े इस काह्‌न्नी आह्‌ले जोगी ने

इस जोगी दर्द बछोड़े दा एह् मारू दुख बी जरी लेआ
इक रोग कबत्ता लाया ऐ ते सीना छानन करी लेआ
साढ़े नै दुक्ख बी बंड्डे नेईं ते फट्ट छपाले जोगी ने
अक्खरें शब्दें दा जोग लेआ मेरे मतवाले जोगी ने
किश गीत लिखे, किश छंद घड़े इस काह्‌न्नी आह्‌ले जोगी ने ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here