गीत

0
368

नीलमी स’ञां
सवेरे केसरी
आई जंदे
थाह्गने लेई हेजले

मत्था चुम्मी दिंदे सीसां
कु’न करग साढे नै रीसां
यारड़े अपने न–
मौसम मनचले
आई जंदे
थाह्गने लेई हेजले

पैंछियें नै प्यार पाया
फुल्लें गी अपना बनाया
सरगमें, कश्बोएं, रंगें नै रले
आई जंदे
थाह्गने लेई हेजले

ब्हाऽ पुरे दी
कोला लंघदी
ठंड पांदी, अंग लगदी
तौह् दियें लैह्‌रें प
बुनदे झलमले
आई जंदे
थाह्गने लेई हेजले

तितलियें मंझ चुप खड़ोना
भरें कन्नै गांदे रौह्‌ना
गंढने गीतें च
सौ-सौ वलवले
आई जंदे
थाह्गने लेई हेजले

जाई दिक्खना गास-गंगा
चित्तै गी लगदा ऐ चंगा
साद्दे दिंदे
सत्तै अंबर मोकले
आई जंदे
थाह्गने लेई हेजले

नीलमी स’ञां
सवेरे केसरी
आई जंदे
थाह्गने लेई हेजले ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here