गीत

1
259

मनै देआ मौजिया
ओ कैंत्त मेरे फौजिया
तेरे बाह्‌जूं सुन्ना एह् ग्रां
ओ मैह्‌रमा मनै देआ
छुट्टी लेइयै तौले घर आ ।

छुट्टी कट्टी टुरी जन्नां
जदूं परदेसें बिच्च
मेरा नेइयों लगदा जी
मनै दे बुआल जेह्‌ड़े
जंदे न दबोई चित्तें
दस्सां ओह् नमाने कुसगी
गेटा आह्‌ली बक्खी
फ्हेर जन्नी आं में दौड़ियै
नित्त गै भलेखे नमें खां
ओ मैह्‌रमा मनै देआ
छुट्टी लेइयै तौले घर आ ।

मौरी बी लड़ाकी तेरी
टिकन निं दिंदी मासा
नित्त नमें कम्में च फसाऽ
जिगरा में करी लैन्नीं
सि’ल्ल छाती धरी लैन्नीं
सीन्ने च दबाई लैन्नी चाऽ
सारियां गोआंढनां मी
लांदियां न चाघियां
होएआ मेरा हाल बुरा
ओ मैह्‌रमा मनै देआ
छुट्टी लेइयै तौले घर आ ।

देसा दा सपाही तूं
देसा नै प्यार तुगी
में बी किश लग्गनी आं
रज्जी-रज्जी कर सेवा
देसा दी तूं शैलड़ेआ
खैर तेरी मंग्गनी आं
देश सेवा करी ‘किप्पी’
नांऽ चमकायां तू
मेरी बस इ’यै गै दुआऽ
ओ मैह्‌रमा मनै देआ
छुट्टी लेइयै तौले घर आ ।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here