गीत

0
520

झुल्लेआ कैसा कैह्‌र, लोको
झुल्लेआ कैसा कैह्‌र
कु’न्न कमाया बैर, लोको
कु’न्न कमाया बैर
एह् करोना डाह्‌डा मारू
ब’रदा बनियै जैह्‌र, लोको
झुल्लेआ कैसा कैह्‌र

असें घरै इच्च रेहियै सारैं
दंद न खट्टे करने न्हाड़े
हत्था इच्च फड़ाई देने
इसदे टुक्कियै पैर, लोको
कैसा झुल्लेआ कैह्‌र

बार -बार तुस धोएओ हत्थ
खट्टियै रक्खेओ मूंह् ते नक्क
करी नमस्ते इक दुए दी
जानी लैएओ खैर, लोको
कैसा झुल्लेआ कैह्‌र

इक दुए शा छिंडा रक्खना
खंघ आवै तां मूंह् गी ढक्कना
मुंहैं उप्पर हत्थ निं लाना
सांभियै रक्खना पैर, लोको
झुल्लेआ कैसा कैह्‌र

क्या डाक्टर, क्या पुलसा आह्‌ले
बने दे रक्षक मानवता दे
सेवाकर्मी, मीडिया कर्मी
दुद्ध पजांदे मैह्‌र, लोको
कैसा झुल्लेआ कैह्‌र

मोदी हुंदी मन्नेओ गल्ल
लॉकडाउन जे इक्को हल्ल
इस बिपता दी घड़ी च मंगेओ
तुस सभनें दी खैर, लोको
कैसा झुल्लेआ कैह्‌र !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here