गुरबत दा घेरा

0
309

में दिलै र पाई ले छाल्ले न
लफ्जें नै बच्चे पाल्ले न।

बच्चें दे ओठें ई सीता ऐ
में घुट्ट जैह्‌र दा पीता ऐ
उच्छलदे भाव सुआले न
में दिलै र पाई ले छाल्ले न

हर बारी धोखा दित्ता ऐ
में घाल मनै गी कीता ऐ
में भन्ने सजरे टाह्‌ल्ले न
में दिलै र पाई ले छाल्ले न

लफ्जें मिगी कीता घाल जदूं
मेरे तर्क बनी गे ढाल तदूं
पर एह् सब लाज पराह्‌ल्ले न
में दिलै र पाई ले छाल्ले न

मेरे घरै च बरकत मुक्की ऐ
बरसांत बी लंघदी सुक्की ऐ
आसें दे सुक्के नाले न
में दिलै र पाई ले छाल्ले न

मेरे घरै गी बनाई नर्क गेआ
खबरै कोह्‌दा बेड़ा गर्क गेआ
घर सद्दने पे दुआले न
में दिलै र पाई ले छाल्ले न

रेहा जीवन दे बिच्च न्हेरा ऐ
एह् जिगरा सज्जनो मेरा ऐ
नित्त शालिग्राम नुहाले न
में दिलै र पाई ले छाल्ले न

की पुच्छन हालत जानियै
मिगी आई कदूं जुआनी ऐ
जरे म्हेशा ठंड ते पाले न
में दिलै र पाई ले छाल्ले न ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here