जटलता दा पाठ

0
250

अज्ज मेरा
स्कूलै च पैह्‌ला दिन ऐ
अज्जै थमां
मेरी मासूमियत गी
जटल बनाने दा कम्म रंभेआ जाना ऐ

हून में
मेरे सुखने गिनी-गिनी दिक्खने न

हून में
मेरा कद्द मेचना रंभना ऐ

हून मिगी
निक्के-बड्डे दा ग्यान होना ऐ

हून मिगी
अपने-बगान्ने गी पन्छान होनी ऐ

हून में
रिश्तें गी नाएं कोआलना ऐ

हून में
काकलें पर लिखे दे अक्खरें दा
मुल्ल पछानना ऐ

हून में
रंग पन्छानने न

हून में
सरहद्दां समझनियां न

हून में
जिस्में दी दुनिया च औना ऐ

हून में
स्याने होना ऐ
हून में
समझदार होना ऐ

अज्ज मेरा
स्कूलै च पैह्‌ला दिन ऐ
अज्जै थमां
मेरी मासूमियत गी
जटल बनाने दा कम्म रंभेआ जाना ऐ ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here