जीवन -काल

0
312

जीवन-काल बधा दा अग्गें
सुरें-बेसुरें, ताल-बेतालें
एह्का ताल ता-थेइएं गाना
भरमें किश भलेखें जाना

साज़िंदें दी ठोकर खाइयै
साज़ कदें बी सुरें नेईं रलदे
कोह्‌दी डफ़ली,केह्‌ड़ा राग
हर साज़ दे अपने भाग
खिच्च-त्रूड़ ते पेदी रौह्‌नी
सुरें नै पर नेईं बैर-बखोध
थांह्-थांह् सुर सजांदी रेही
भामें धिङोजोरी सेही
जीवन-काल बधा दा अग्गें
सुरें-बेसुरें, ताल-बेतालें

कदें बझोंदा भलेआं अपना
पलै हारी एह् सत्त बगान्ना
दुख कसाले फेरा पांदे
फ्ही खुशियें लेई थां बनांदे
कदें प्यारा फुल्लें आह्‌ङर
कदें कंडें मंझ जकोए दा
सूतर -सूतर कतोए दा
फ़र्जें हेठ दबोए दा
जीवन-काल बधा दा अग्गैं
सुरें-बेसुरें, ताल-बेतालें

मरुथलै च फिरदा रौंह्‌दा
इक्कला-मुक्कला, आप-मुहारा
भाव-रैह्त,रेतु दा कण एह्
सड़दा-बलदा धुप्पै रोज
उड़दा-फिरदा अंधी कन्नै
कदें बनांदा टीले बड्डे
खड़वातै दे हत्थ चढ़े दा
टीलें शा फ्ही होंदा समतल
जीवन-काल बधा दा अग्गैं
सुरें-बेसुरें, ताल-बेतालें

इक जीवन इच्च किन्ने जीवन
इस्सै चाल्ली चलदे रौह्‌ने
कदें बझोने इतर -फलेल
कदे-कदें एह् खलदे रौह्‌ने
आसां-मेदां, सुखने किन्ने
किरमिर-किरमिर किरदे रौह्‌ने
गंढ-त्रुप इक थांह् दा करनी
दुए थांह् दा छिरदे रौह्‌ने
जीवन-काल बधा दा अग्गें
सुरें-बेसुरें, ताल-बेतालें
एह्का ताल ता-थेइएं गाना
भरमें किश भलेखें जाना।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here