देना गै जिं’दी फितरत ऐ

0
164

में धारें गी
जोरियै आल दित्ती
ओह् केईं गुणा बधियै
सरीली ते सजरी होइयै
परतोई आई

शायद धारें दा
एह् सनेहा लेइयै आई
जे ओह् लैने कोला ज्यादा
देने च यकीन करदियां न ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here