पतझड़ दे बाद आई कनेही एह् ब्हार

0
338

पतझड़ दे बाद आई कनेही एह् ब्हार ऐ
निम्मोझान होइयै आखै चिड़ियें दा डोआर ऐ

नां कोई रौला-रप्पा, नां कोई झिड़कां
सुन्नसान ग’लियां, सुन्नसान शिड़कां
नां कोई रोआर ऐ, नां कोई पार ऐ
पतझड़ दे बाद एह् कनेही मड़ो ब्हार ऐ

भज्जी गेई ऐ मैं, भज्जी गेई ऐ टैं
सनोचदा नेईं हुन उं’दे घर चैं-चैं
बिट-बिट दिक्खा दा बंद हुन बजार ऐ
पतझड़ दे बाद आई कनेही मड़ो ब्हार ऐ

जिंदगी च माह्‌नुआ, पलै दा निं पता ऐ
बिजन उसदी मर्जी निं हिलदा इक पत्ता ऐ
भन्नी दिंदा वक्त भलें-भलें दा अहंकार ऐ
पतझड़ दे बाद आई कनेही एह् ब्हार ऐ

पतझड़ दे बाद आई कनेही एह् ब्हार ऐ !
निम्मोझान होइयै आखै चिड़ियें दा एह् डोआर ऐ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here