पीड़

0
353

सच्च पुच्छो तां न्यारी लगदी
पीड़ मीं अत्त प्यारी लगदी।

अक्खीं गी एह् सागर करदी
त्रिप-त्रिप मोती गोदै भरदी
फ्ही आपुं इक सूत्तर बनियै
खिल्लरे मोती आप कठेरै
उं’दे कन्नै मिगी बडेरै
रगड़ी-धोई नमां बनांदी
ठंडे-मिट्ठे साह् ऐ पांदी
जीने दी इक आस जगांदी
सच्च पुच्छो तां न्यारी लगदी
पीड़ मीं अत्त प्यारी लगदी।

ल्हुऐ दे इक-इक तोप्पे इच्च
हड्डियें अंदर इ’यै बसदी
अंदरो-अंदरी कुरजी औंदी
पीड़ें आह्‌ले बीऽ पौंगरदे
बधी-उस्सरी फ्ही ओह् इक दिन
शैल-झौंगरा बूह्टा होंदे,
पीड़ें आह्‌ले इस बूह्टे पर
भावें आह्‌ले गुत्थ मठोंदे
किर-किर करदे भाव पुड़छियै
थां-थां में बनकाई लैन्नीं
कविता इक सजाई लैन्नीं
सच्च पुच्छो तां न्यारी लगदी
पीड़ मीं अत्त प्यारी लगदी।

सोचो, जेकर पीड़ नेईं होंदी
कु’न होंदा जरनीक ,नमाना
ख़ुशियें दी कोई कदर नेईं होंदी
ग़ज़लै दे मिसरे नेईं होंदे
अक्खीं सोके पेदे रौंह्‌दे
ल्हुऐ दी थां बगदा पानी
हास्सें दी कोई रौंस नेईं होंदी
आस्सें गी बी थौह् नेईं होंदी
सच्च पुच्छो तां न्यारी लगदी
पीड़ मीं अत्त प्यारी लगदी।

डरनी जेकर मुक्की जाङन
पीड़ा जेकर चुक्की जाङन
खाल-मखाल्ली होई जाना फ्ही
र्‌होली कुस दी ऐ जीना फ्ही
इक परात पीड़ें नै भरियै
खट्टी शैल पलेटी दी में
अंदरें कोठी सांभी दी में
पीड़ें आह्‌ली भट्ठी बलदी
सलगाइयै पारस करदी
सच्च पुच्छो तां न्यारी लगदी
पीड़ मीं अत्त प्यारी लगदी।

Previous articleअतीत
Next articleगज़ल
Promila Manhas
Promila Manhas is known for her poignant style of writing. She has represented Dogri in many National Poetic Symposia. Apart from being a poet of repute she is a newscaster cum translator with Akashwani Jammu. Professionally, she is working with the Department of School Education of the UT of J&K as Lecturer in Botany.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here