प्रकृति दी रानो

0
337

में तुप्पै करना आं
उस कुड़ी गी
जेह्‌ड़ी बैठी दी ऐ
बदलुएं दी डोली च
ते जिसने
पाई दी ऐ पशाकी बसैंती
ते कज्जे दा ऐ सिर
तारें दी मकैशै आह्‌ले ओढनू कन्नै

किणमिण-किणमिण कणियें दे
सुच्चे मोतियें दी गल माला ऐ
ते अक्खीं च दि’ब्ब जोती दी जुआला ऐ
गलाबी ग’ल्लें पर गुत्तियां न
मौसमीं रंगें कन्नै
भरची दियां मुट्ठियां न

हुनै-हुनै ओह्
डोली परा छड़ापी मारियै
बेही गेई ऐ
अंबरै दे डाह्‌ले पर पेई दी पींह्‌गै पर
निक्के होंदे में जिसगी अक्सर आखदा हा–
गुड्डी-गुड्डे दी पींह्‌ग !

आखदे न जे
सत-शमानै दे सत्तें-पर्दें च
दि’ब्ब नजारें दा तलिस्म
बंद ऐ इक संदूकड़ी च
ते ओह्‌दे जंदरे दियां कुंजियां
उस कुड़ी नै ब’न्नी दियां न
अपनी परांदी कन्नै

में तुप्पै करना आं
शलैपे दी उस रानो गी
जेह्‌ड़ी गोआची गेई ऐ
बदलुएं दे टोल्ले च ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here