प्रतिक्रिया सरूप समीक्षात्मक चपंक्ते *

0
358

भाव दिला बिच्च उट्ठन ते जान पकड़ोई
उ’नेंई करने तै व्यक्त जाह्‌न‌ शब्द बी थ्होई
कोरा काकल ते कन्नै कोल-कश काह्‌न्नी होऐ
फ्ही ‘फजूल दे जतन’ कविता की नेईं जाऽ लखोई।
x x x x
मिलने दी जित्थै खुशी च बछोड़ा आई ब’वै
हत्थ फड़ने दी खुशी च छुड़कने दा डर र’वै
खदशें दी नीहें पर कनून होन बने दे
नां में आं उत्थू दा , नां मेरा घर ओह् ऐ ।
x x x x
लैन्नां होने दे ऐह्सास दा में नंद रज्जियै
जदूं अपने च होन्नां में देहु गी छड्डियै
नेईं होंदा में अचेत जदूं नां गै चतन्न
जागो-मीटी दी डोआठनी नै में रौह्‌न्नां लग्गियै ।
x x x x
किन्ना सूखम होंदा कविता दा भाव सज्जनो
तां गै दिंदा केईं अर्थ लाजवाब सज्जनो
कि’यां जंदा ऐ लखोई, दस्सी सकदा निं कोई
शीर्शक ‘केईं बारी कविता…’ ऐ जवाब सज्जनो ।
x x x x
सत्ताधारियें च सत्ता दा जे सुआर्थ निं होंदा
तां जैह्‌र शिवजी गी कदें पीना गै निं पौंदा
संघासन डोलने दा डर र’वै जिसगी डरांदा
ओह् देवता खोआने दा अधिकारी गै निं होंदा ।
x x x x
भावें दी सूखमता न्नै जेह्‌ड़ा तदाकार ऐ
ओह् जानदा ऐ गुणें नै बंदा थाह्‌र-थाह्‌र ऐ
ओह् अर्थें दा विश्लेश्ण करियै शब्द बदली लै
जि’यां प्रभु ऐ खढारी, जिंदगी खलार ऐ ।
x x x x
कुदरत नै जाई संवेदना जदूं खड़ोंदी ऐ
पल-पल ते हलचल दी जदूं माला परोंदी ऐ
चेते दोआसियां जदूं मन-आह्‌लड़ै परतोन
असलै च यारो उसलै गै स’ञ होंदी ऐ ।
x x x x
अपना आप कवि गी डाकिया बझोंदा ऐ
कविता दी चिट्ठियें गी लगातार ढोंदा ऐ
गलत सिरनामे पर पुजदी जदूं चिट्ठी ऐ
अपने आपा पर शर्मिंदा बी होंदा ऐ।
x x x x
शब्दें दी जे व्यवस्था च निं र’वै बिंद फर्क
अपने आप शब्द-बित्थें च फ्ही समाई जान अर्थ
जान शब्द फ्ही बलोंदे, अर्थ जान समझोंदे
बिन बोल्ले मता बोलने दी रक्खन जो शर्त ।
x x x x
कवि दी शख्सीअत दा सूखम जो आकार ऐ
बनियै ओह् कविता च खड़ोंदा हथ्यार ऐ
कवच-सुरक्खेआ बी केईं बारी बनदा
बशक्क निं जतांदा, होन दिंदा निं हार ऐ ।
x x x x
मिलेआ उ’नें लोकें गी , गेआ थाह्‌र-थाह्‌र
मंदा हा जिं’दा सज्जनो लग्गे दा बेशमार
पर थाह्‌र निं हे रेह् दे, नां लोक ओह्‌कड़े
परतोना नेईं समां, नां जाना मंदे दा बखार ।
x x x x
ड्रामे च मनुक्ख अज्ज होए दा गलतान ऐ
बनी चुके दा ड्रामा गै एह्‌दी पन्छान ऐ
अपना ते जीन ओह् कदें लभदा गै निं जींदा
अपने नै मिलने दा उस्सी बिंद निं ध्यान ऐ ।
x x x x
पल-पल दी करदे कविता मेरे सोआस न
खुशी दे भां गमीं दे, ओह् बड़े गै खास न
हद्द हिरदे-गासै दी ऐ बेअंत, बेहद्द
तां गै समाए दे उस च अनगिनत गास न।
x x x x
गुड्डियां खचोई जान, डोरां लपटोई जान
गास खाल्ली होऐ जदूं स’ञां घरोई जान
अक्खां, कन्न, जीह्‌ब ते दमाक साथ छोड़ी देऐ
बल्लै-बल्लै रिश्ते दियां तंदां फ्ही पटोई जान ।
x x x x
भाव जदूं अंदर औन दि’ब्ब नाच नचदे
मलांदी सुर चेतना जोड़ियै शब्द जचदे
जिस्सी सुनी श्रोताएं च कविता ऐ जागदी
वाह्-वाह् करी कविता आपूं गै ओह् रचदे ।

*प्रो. ललित मगोत्रा हुंदे कविता-संग्रैह् – अनगिनत गास, दियें किश कविताएं पर अधारत ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here