फफ्फड़ताली दुनियां

0
339

चिट्टी चमड़ी मुंहां मिट्ठी, मनै दी काली दुनियां शा
बड़ा कठन ऐ होंद बचाना, फफ्फड़ताली दुनियां शा

कुसै दी गुड्डी चढ़दी दिक्खी एह् निं मासा जरदी ऐ
कुसै दे रस्ते कि’यां रोकै, सदा सबीलां करदी ऐ
सुख कुसै दा दिक्खी यारो, जलने आह्‌ली दुनियां शा
बड़ा कठन ऐ होंद बचाना, फफ्फड़ताली दुनियां शा

छप्पा-गुज्झा कु’न केह् करदा, असें ते कीती राखी निं
मनै ते जीह्‌बै इक भाव हे, लेच-पलेची भाखी निं
दूरा लभदी भरी-भरोची, बिच्चा खाल्ली दुनियां शा
बड़ा कठन ऐ होंद बचाना, फफ्फड़ताली दुनियां शा

लोड़ै सिर जो बदली लैंदे अपने घड़े असूलें गी
रत्ती भर बी शर्म निं औंदी ऐसे नामाकूलें गी
राम बचाइयै रक्खै सब गी इस नराली दुनियां शा
बड़ा कठन ऐ होंद बचाना, फफ्फड़ताली दुनियां शा

दुनियां जींदी सदा घमंडैं, उडदी रौंह्‌दी गासै पर
खज्जल समझो जेह्‌ड़ा रौंह्‌दा एह्‌दी यारो आस्सै पर
हिरख ते ‘केसर’ हजम निं होआ इस दुहाली दुनियां शा
बड़ा कठन ऐ होंद बचाना, फफ्फड़ताली दुनियां शा ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here