फ्ही बचपन आया

0
329

फेरा साल सठमें पाया
लग्गा जे फ्ही बचपन आया
ढलदी जीवन दी स’ञां गी
थ्होआ जि’यां कोई सरमाया
फेरा साल सठमें पाया
लग्गा जे फ्ही बचपन आया

ञ्यानें नै ञ्याणा होई जन्नां
इं’दी मस्ती च खोही जन्नां
ज्ञान भरोची गल्लां करदे
दिक्खी एह् भलखोई जन्नां
मौका नेईं मस्ती करने दा
इं’दे कन्नै कोई गुआया
फेरा साल सठमें पाया
लग्गा जे फ्ही बचपन आया

गल्लां तोतलियां आई गेइयां
अपनी भुलाई लेइयां
खाई लैना इं’दे शा खोहियै
जूठी-मिट्ठी होन जनेहियां
लड़ियै फ्ही इक होना इं’दा
मेरे मनै गी ऐ भाया
फेरा साल सठमें पाया
लग्गा जे फ्ही बचपन आया

श्री कृष्ण , कोई शक्ति मान
छोटा भीम, कोई हनुमान
आपै गै सब बनी बौंह्‌दे
चुटकी, सजूका, डोरे-मान
इं’दे रंगें र’मां रंगोआ
बालें गी तां नेईं रंगाया
फेरा साल सठमें पाया
लग्गा जे फ्ही बचपन आया

जित्थें बी रक्खां डंगोरी
तुप्पी लैंदे न एह् चोरी
कन्नें च आई डोल सनांदे
चलो तुसेंगी आह्‌नचै टोरी
ऐनक देई औंगल पकड़ांदे
टुरना जि’यां इ’नें सखाया
फेरा साल सठमें पाया
लग्गा जे फ्ही बचपन आया

बड़े शतूने अफलातून
भाखे इ’नेंगी सारे कनून
कंप्यूटर आह्‌ला लेखा दमाक
अंबर छूह्‌ने दा जनून
भारत मीं इं’दे च लभदा
पिच्छें ‘रतन’ तां गै लाया
फेरा साल सठमें पाया
लग्गा जे फ्ही बचपन आया

फेरा साल सठमें पाया
लग्गा जे फ्ही बचपन आया
ढलदी जीवन दी स’ञां गी
थ्होआ जि’यां कोई सरमाया ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here