बरखा दियां कनियां

0
285

पैह्‌लें इक, फ्ही द’ऊं ते फ्ही सारियां जनियां
औंदियां न किट्ठियां होइयै एह् बरखा दियां कनियां ।

तां मेरी लेर-ढेर जिंदु च जान औंदी ऐ
उज्जड़े दे मनै दी ठंडड़े फनूकें कन्नै पन्छान होंदी ऐ
कदें मनै दे मंदरै च बजदियां न घैंटियां
ते कदें अशकें मनै दी मसीती च अजान होंदी ऐ
शीतल फुहार, सलक्खनी नुहार
निर्मल उज्जल रूप ते बनियां-ठनियां
एह् बरखा दियां कनियां ।

गुम-चुप रौंह्‌दियां, नेईं शोर करदियां न
मिकी अपने हिरखै कन्नै सराबोर करदियां न
जोकियां मेरी मित्तरनी न बनियां
एह् बरखा दियां कनियां ।

मेरे जख्मी दिलै गी अश्कै टकोर करदियां न
लिस्सी-मांदी मेरी जिंदु दी सोह्‌ग्गी टोर करदियां न
मिगी अज्ज होर ते कल्ल होर करदियां न
पैह्‌ली कनी पौंदे गै मेरे मनै दी धरती पर
होंदी ऐ सुंधी-सुंधी कश्बो
ते मेरे न्हेर-मन्हेरे रस्तें च लोऽ गै लोऽ
ते में लेइयै तेरे स्हारें दी छतरी
करी लैन्नी आं पैंडा किन्ने गै क्रोह्
भुल्लियै जालो-खाले ते शरीकें दियां तनोतनियां
एह् बरखा दियां कनियां ।

जिंदु च औंदा ऐ उद्दम परतियै जीने दा दम-खम
में सोह्‌ग्गी होइयै चलनी आं
द’ऊं डोड्डें लेई आटा मलनी आं
ढोड्डे त’वे पर बाह्‌न्नी आं
ते कढ़ी बनाने दी सबील बनान्नी आं
घोलनी आं बेसन
ते बिच्च पान्नी आं सैल्ली मर्च ते धनिया
एह् बरखा दियां कनियां ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here