बाणप्रस्थी

0
358

सुख-सुवधा सब भोगी ऐठा, जी लेई यरो घ्रिस्ती
जोका मेरा चित्त करै दा होई जां बाणप्रस्थी।

हुन तांह्‌ग निं बाक़ी रेह् दी, पूरी जेह्‌ड़ी होई नेईं
शैल जिंदगी जी लेदी में, अज्ज तृष्णा कोई नेईं।
जतनें-जतनें करी में लेदी काबू मनै दी किश्ती
जोका मेरा चित्त करै दा होई जां बाणप्रस्थी।

चढ़ियै मड़ो चढ़ाइयां आखर, ढलियां किश उतराइयां
खुशियें दे में कोह्‌ल भरी ले, बिपतां सब बिसराइयां
जो मनै ने खाह्‌श ही कीती, थ्होआ मी दस्तो-दस्ती
जोका मेरा चित्त करै दा होई जां बाणप्रस्थी।

बक्खरे-बक्खरे रंगें कन्नै रेही बरेसा शोखी
खाद्धा-लाया शैल मेआरी, जीवन रेहा संदोखी
मारी लेइयां मौजां बड़ियां, कीती सुद्धी मस्ती
जोका मेरा चित्त करै दा होई जां बाणप्रस्थी ।

समें दा चक्कर चलदा रौह्‌ना, एह्‌दी चाल नराली
तली दी लीह्‌कर बदली कु’न्नै, सकेआ कु’न मस्हाली
समें दे अग्गें दनां क सोचो, कुसदी केसर हस्ती
जोका मेरा चित्त करै दा होई जां बाणप्रस्थी

भोग भोगने दी बी होंदी कोई घड़ी ते खीरी
सच्च ते म्हेशां सच्च गै रौह्‌ना, कैह्‌दी ऐ दिलगीरी
छोड़नी पौनी उ’आं बी इक दिन रंग- रंगीली बस्ती
जोका मेरा चित्त करै दा होई जां बाणप्रस्थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here