भलेखा

0
169

केईं बारी सोच औंदी ऐ
जे
धार्मक ते तीर्थ-स्थानें पर
रींघां लाइयै
बैठे दे मंगते
अंदर जाने आह्‌ले
शरधालुएं अग्गै
कीऽ तलियां अडदे न
मिन्नतां करदे न
थालियें च भनकट पाइयै

ओह्
अंदर आह्‌ले कशा
आपूं की निं मंग्गी लैंदे
अंदर जाइयै
जिस कशा ओह् सब मंगन जा दे न

फ्ही लगदा ऐ
कुतै ऐसा ते नेईं
जे अंदर जाने आह्‌ले सब भलेखे च न
‘ओह्’ अंदर है गै नेईं
ते
मंगतें गी एह् सब पता ऐ !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here