भुआड़ा

0
171

लोड़ नेईं ऐ
मांगवें कक्खें दी
मीं भुआड़ें ताईं
की जे
किश कक्ख
में सांभी रक्खे दे न
अगड़ताईं

भौ सांभना औंदा ऐ
जे मीं
तां औंदे न कक्ख लाने बी
फेरना सुब्बा बी
भुल्लेआ निं में
अजें धोड़ी

तूं लक्ख खैह्‌री लैएआं
में इन्ना झल्ल लाए दा होना चबक्खै
जो तुगी लीरां करने ईं
बथ्हेरा ऐ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here