मजदूर

0
127

मजदूरा दी मजबूरी गी कोई नेईं समझा करदा ऐ
सर्दी-गर्मी न्हेरी-झक्खड़ सब किश इ’यै जरदा ऐ
मजदूरा दी मजबूरी गी…..

रुट्टी-पानी दा बी मुश्कल, घर बी कि’यां जाना ऐ
बच्चे रोंदे, मामां रोंदियां, नां कोई थोह् ठिकाना ऐ
बेबस होआ, घर जाने गी तरले-मिन्नतां करदा ऐ
मजदूरा दी मजबूरी गी…..

मिट्टी कन्नै मिट्टी होआ, बेह्‌ल्ला बिंद निं बौंह्‌दा ऐ
मैल चढ़ी दी कर्जे दी, बस उसगी धोंदा रौंह्‌दा ऐ
साढ़ी भुक्ख मिटाने आह्‌ला आपूं भुक्खा मरदा ऐ
मजदूरा दी मजबूरी गी…..

इस्सी निं जुड़दी कुल्ली-जुल्ली, लोकें दे मैह्‌ल बनांदा ऐ
सपने दे एह् मैह्‌ल सजाई मन अपना पतेआंदा ऐ
मैह्‌ल बनांदे भुञां पौंदा, तड़फी-तड़फी मरदा ऐ
मजदूरा दी मजबूरी गी…..

दिन-राती मेह्‌नत करदा, पूरी बिंद निं पौंदी ऐ
द’ऊं बेल्लें दी रज्जी रुट्टी इसगी निं थ्होंदी ऐ
बूंद-बूंद गी आपूं तरसै, सारें गी जल-थल करदा ऐ
मजदूरा दी मजबूरी गी…..

रेत-बजरी कन्नै खेढै, सीमैंट कन्नै एह् न्हौंदा ऐ
रोड़ी कुटदा, लुक्कां पांदा, तुप्पां तपदा रौंह्दा ऐ
देन दलासे नेता आइयै, गल्लें ढिड्ड निं भरदा ऐ
मजदूरा दी मजबूरी गी कोई नेईं समझा करदा ऐ
सर्दी-गर्मी न्हेरी-झक्खड़ सब किश इ’यै जरदा ऐ ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here