मजबूर

0
495

खुद-मुख्तेआर कोई बेशक जरूर ऐ
समें कन्नै चलने गी माह्‌नू मजबूर ऐ ।

समें गी ते आदमी निं कदें छली सकेआ
अक्ख दस्सी इसगी निं कोई चली सकेआ
दोशी होऐ भाएं जां फ्ही बेकसूर ऐ
समें कन्नै चलने गी माह्‌नू मजबूर ऐ

समां गै खलांदा फिरै कदें-कदें चूरियां
पंड ब’न्नी आह्‌नदा ऐ कदें मजबूरियां
मेह्‌नत कराइयै एह् करै चूर-चूर ऐ
समें कन्नै चलने गी माह्‌नू मजबूर ऐ

समां बस अपनी गै मर्जी दा मालक ऐ
जिसने बी जिंदगी च कीता कदें आह्‌लक ऐ
फेरेआ ऐ उस्सै गी इस लूर-लूर ऐ
समें कन्नै चलने गी माह्‌नू मजबूर ऐ

अपने कनून कन्नै दुनिया गी ब’न्नेआ
केसर गमान भलें-भलें दा ऐ भन्नेआ
राजा भाएं रंक होऐ जां फ्ही मजूर ऐ
समें कन्नै चलने गी माह्‌नू मजबूर ऐ

बिरथा निं गालो यरो भुल्लियै बी समें गी
मान ते सम्मान देओ इक-इक लम्हे गी
छाई जाना जिंदगी च इक नमां नूर ऐ
समें कन्नै चलने गी माह्‌नू मजबूर ऐ ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here