मते दिनें दे मगरा

0
548

मते दिनें दे मगरा चित-बुद्ध होए भ्याल
सजरे-सजरे अत्त सलक्खने होए ख्याल ।

मते दिनें दे मगरा इ’यां समर्पण आया
जि’यां नदियें सागर कन्नै साक नभाया ।

मते दिनें दे मगरा मन निं पेआ दलीलैं
किश ते टूना बरतेआ निग्घी हिरखी हीलैं ।

मते दिनें दे मगरा मैह्की गीत-क्यारी
अपनी धड़कन आप सनोई आपमुहारी ।

मते दिनें दे मगरा आमद इ’यां होई
भरी दपैह्‌री जि’यां ठंडी छां ही थ्होई ।

मते दिनें दे मगरा गल्ल एह् समझा आई
माहनू उ’ऐ माह्‌नू जिस ने प्रीत नभाई ।

मते दिनें दे मगरा पुंगरी पेआ हौसला
जीवन लग्गेआ अत्त सन्हाका अत्त रौंसला ।

मते दिनें दे मगरा सोच पखेरू उड्डरे
भाव मनै दे अक्खरै र्‌होली होए उबड़े ।

मते दिनें दे मगरा मनै च बज्जियां कैह्ल्लां
छ्प्पै नेईं उत्त्साह में भाएं लक्ख छपैलां ।

मते दिनें दे मगरा इक-मिक अंदरा बाह्‌रा
गीत होए दे मीत जि’यां बडले दा तारा ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here