माहिया

0
131

ब्हा प्यौके दी आई ऐ
सौह्‌रे घर लाड़ियै ने
घुट्टी छातिया नै लाई ऐ ।

ब्हा प्यौके दी आई ऐ
साहें इच मिसरी घुली
सारी जिंदु च समाई ऐ ।

ब्हा प्यौके दी आई ऐ
चेतै आया बीर लौह्कड़ा
तां छोआली उठी आई ऐ ।

ब्हा प्यौके दी आई ऐ
अज्ज नीले निंबलै बी
नैनें बद्दली बर्‌हाई ऐ ।

ब्हा प्यौके दी आई ऐ
बाबलै दे अंगनै खड़ी
अंबड़ी चेतैं छाई ऐ ।

कल्ल सज्जनें टुरना ऐ
गोरी निम्मोझान खड़ी
पिच्छूं तिल-तिल खुरना ऐ ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here