मिगी लेई चल ऐसे थाह्‌र

0
275

मिगी लेई चल ऐसे थाह्‌र
जित्थें तु’म्मी नेईं
जित्थें मि’म्मी नेईं
चबक्खै मारू इक डंडकार
चल, लेई चल ऐसे थाह्‌र
जित्थें तु’म्मी नेईं
जित्थें मि’म्मी नेईं

रेतु दी रस्सी बट्टियै
कदें बेड़ी पार खचोंदी नेईं
अजें रूह् आह्‌ली कनक ते गिल्ली ऐ
गिल्ली ते चक्की प्होंदी नेईं
नेईं करेआं खज्जल-खुआर
मिगी लेई चल ऐसे थाह्‌र
जित्थें तु’म्मी नेईं
जित्थें मि’म्मी नेईं

जिस देह् दी बुक्कल मारी में
ओह् युगें-युगें थों भिट्टी ऐ
कोई बड़ा कुशल इक धुब्बा ऐ
मिगी मेद, करग रूह् चिट्टी ऐ
ओह् बड़ा गै चतर-चनार
ते लेई चल ऐसे थाह्‌र
जित्थें तु’म्मी नेईं
जित्थें मि’म्मी नेईं

में कोल तेरे पुज्जने ताईं
घर-बार छोड़ियै हठ फडे़
अति ऐंत मनै दी पीड़ डूंह्‌गी
घट्ट करने लेई में वाख घड़े
अंदर बड़ी गेआ फनकार
हुन लेई चल ऐसे थाह्‌र
जित्थें तु’म्मी नेईं
जित्थें मि’म्मी नेईं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here