में उस पीढ़ी दा वारिस

0
163

में
उस पीढ़ी दा वारिस आं
चढ़दी जान्नी च
जिसने अपने साथियें कन्नै
लुट्टियां हियां
पंजी-दस्सियां

जग्गै दी धामा च
बस्स
इ’यै हियां हीखियां
जे दक्खना च
कुसलै थ्होङन
दुक्की-त्रिक्कियां

बड्डे भ्राऊ दे
चाएं-चाएं
पाई लैंदे हे तुआर अस
ते फ्ही
बनी -बनी बौंह्दे हे
अपनी माऊ दे
राजकुमार अस

पढ़ने गी नसीब हियां
“सैकंड- हैंड” पोथियां
मास्टर जी चाढ़ी लैंदे हे
शैल चोत्थियां
फ्ही बी
“उफ्फ” नेईं ही कीतियां

चिङियां-चिङियां हियां
साढ़ियां आसां
मोमली-कुंगली
साढ़ियां खाह्शां
नेईं हे करदे
चेचियां फरमैशां
फ्ही बी
मेलें-मसाधें च
करी लैंदे हे ऐशां

में
उस पीढ़ी दा वारिस आं
जित्थै
सैह्की-सैह्की
सिल्ले चुनियै
होंदे हे गुजारे
फ्ही बी
हस्सी- खेढी हंडाए हे ओह् दिन सारे
बाड़ें चा चोरी
दुहानें-खरबूजें-अंबें दा
छब्ब लाने आह्‌ले
मेरे राजदारो
शिवालें
ठाकर-दुआरें परा
चोरी आन्ना-धेल्ला
चुक्कने आह्‌ले
मेरे जोट्टीदारो
तुस
अज्ज कु’त्थै ओ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here